तू चल

तू खुद की खोज में निकल
तू किस लिए हताश है,
तू चल तेरे वजूद की
समय को भी तलाश है ।

जो तुझ से लिपटी बेड़ियाँ
समझ न इन को वस्त्र तू,
ये बेड़ियां पिघाल के
बना ले इनको शस्त्र तू ।

चरित्र जब पवित्र है
तो क्यों है ये दशा तेरी,
ये पापियों को हक़ नहीं
की ले परीक्षा तेरी ।

जला के भस्म कर उसे
जो क्रूरता का जाल है,
तू आरती की लौ नहीं
तू क्रोध की मशाल है ।

चूनर उड़ा के ध्वज बना
गगन भी कपकाएगा,
अगर तेरी चूनर गिरी
तो एक भूकंप आएगा ।

तू खुद की खोज में निकल
तू किस लिए हताश है,
तू चल तेरे वजूद की
समय को भी तलाश है ।

अज्ञात कवि

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s